Poems written by Dr. Sonia Gupta

Profile photo of Dr. Sonia Gupta

Dr. Sonia Gupta

Signup / Login to follow the poet.
myself DR SONIA BDS, MDS (ORAL PATHOLOGY) working as sr lecturer in a reputed dental college fond of writing, paintings, cooking, knitting, singing and desgining just a budding poetess got a collection of almost 100 poems wish to get a book published thanx to visit my profile...

Parents

Parents short poem

whenever I feel alone in the journey of my life, only one company isthere with me….. Whenever I am hopeless in this life, only one hope is with me… Whenever i am wrong for everyone in this life, only one

Faith

Faith short poem

Have faith in your capability, you will see impossible turning into possible… Have faith in your strength, you will find all weakness turning into strongness… Have faith in your mind, you will see all unsolved puzzles turning into answers… Have

आज का जहान

आज का जहान kavita

इस जहान में हर कोई जीए जा रहा है अपनी ही धुन में फिरे जा रहा है क्यों इतना स्वार्थी हो गया है हर शख्स यहाँ बस खुद के लिए ही मुस्कुरा रहा है, संभव नहीं यहाँ अकेले जीना साथ

हार से हार मत मानो तुम

हार से हार मत मानो तुम kavita

हारने से क्यों डरते हो तुम हार से हार मत मानो तुम, यदि जीवन में कुछ करना है हासिल तो हार को गले लगाओ तुम, असफ़लता सफ़लता की सीढ़ी है गिर कर संभलना ही तो ज़िन्दगी है, आंसू तो केवल

इक सवाल

इक सवाल kavita

कौन कहता है कि ख़ुदा को किसी ने देखा नहीं आज तक यहाँ? माँ बाप को रोज़ देखते तो हो बरखुर्दार तुम, और कहते हो कि ख़ुदा है कहाँ?? वो ऊपर वाला तो केवल भेजता है इस जहान में हमें