Poems written by saruchi camboz

ज़माना बदल दिया

ज़माना बदल दिया kavita

रुख हवाओं का बदल दिया है कहता है इंसान मैंने ज़माना बदल दिया है, कामयाबी हासिल करने की चाहत थी छुपन छुपाई खेलती हमसे हमारी किस्मत थी, आख़िर किस्मत का पलड़ा अपनी तरफ़ किया है कहता है इंसान मैंने ज़माना