Poems written by ravi panwar

मै

मै kavita

आज अकेले मे मुझको कुछ याद आ गया सुनो तुम भी ,वो कुछ मुझे भी सुना गया जिनके आने से महक जाते थे तर्रनुम मेरे वो आज फिर मेरे सामने आ गया। क्या कहु उन्हें खबर तक नहीं मेरी पलके