Poems written by Meghdutam

What was that dream?

What was that dream? long poem

What was that dream A colour so strange Never felt before Which neither keeps me awake Nor let me sleep Compelling me out of myself Each moment And I stand perplexed With a fractioned heart Restless, Entrapped, Behind those walls

क़त्ल कर के…

क़त्ल कर के... ghazal

क़त्ल कर के मेरे क़ातिल ने कहा तुम्हें क्या हुआ, तुम्हें किसने मारा है I ग़ैर का बोसा है अगर तुम्हारी जीत का निशां “मेघ” जानता है के वो, इसी में हारा है I तुम क्या समझाओगे उसको असरार-ए-हक़ीकत वो

Who Are Ye’

Who Are Ye long poem

(Recollections: Circa, 1999) Every time when I’d thought of ye My heart wondered – who are ye May be, ye: That first rain drop falling on a parched land That flower which blossoms in a barren soil That first vision

मैं ख़्वाब और ख़ामोशी

मैं ख़्वाब और ख़ामोशी azad nazm

फिर वही मैं, एक ख़्वाब और कुछ ख़ामोशी एक अजनबी शाम की तरह धुंधलाता हुआ सा तुम्हारा चेहरा अपने ही टुकड़ों पर मुस्कुराता एक टूटा हुआ दिल और उसमें बिखरी पड़ी तुम्हारे हुस्न की कहानी जो मैंने अब तक गिरते

एक टूटी हुई खिड़की

एक टूटी हुई खिड़की azad nazm

एक टूटी हुई खिड़की और धूप की सलवटों में छिपी एक परछाई ढूंढती हुई भीड़ में किसी अपने को एक ख़ामोश तड़प उसे देख लेने की जो कुछ न होते हुए भी था सब कुछ वो निगाह जो मुझे तुममें

ये शहर

ये शहर azad nazm

ये शहर जो सोया हुआ है अपने ही तसव्वुर में खोया हुआ है इस शहर की ख़ामोशी का अजब अंदाज़ है यहाँ फ़िज़ाओं में बहती सपनों की आवाज़ है ये शहर जो पेड़ों से बुना हुआ है अपने जिस्म पर

Baron and Feme

Baron and Feme long poem

The end, Is the beginning For it emerges Like a phoenix From the ashes Of hope, And upon broken wings Makes sore attempts To seek true love Up & down And forwards and backwards It moves, And comes to the

When You Were There…

When You Were There… long poem

I heard the shepherdess sing The song of dawn upon the hill Merry go the twinkling stars In shelter of their dream The sunbeams come Dancing upon the lake When the yellow traveler Makes his sway Flowers open up their

A Christmas Carol

A Christmas Carol short poem

There’s a Christmas in my heart That keeps burning The candle of sweet joys And hopeful days, blissful memories of the past Like an eternal shine Of the happiness divine Dispelling, The darkness within And I shine like a sun

मेरे घर के कोने में रखी कुछ किताबें

मेरे घर के कोने में रखी कुछ किताबें azad nazm

मेरे घर के कोने में रखी कुछ किताबें सूरज की रौशनी को खुद में समाए अपने उजाले से मेरे मन के अंधेरों को चीरतीं, हवा जिन्हें जब छूकर निकले तो अपने शब्दों के कम्पन से सुनाती हैं एक गुमी हुई

The shadow of me…

The shadow of me... short poem

In this endless journey, In this endless pursue, I thought – I was alone, Until, I found someone along with me, Paused briefly – momentarily, I looked back to see – For I thought may be it’s thee, But, It

Rajputs Go To War

Rajputs Go To War long poem

‘O Rana¹’ The odds are heavy The match is five to one Or may be more Our enemies united For our annihilation And knock like Ocean waves At our doorsteps Surrounded From all sides We are With no help coming

The Song Of Life

The Song Of Life short poem

Heartbroken, Alone Silent Trapped by thoughts Strangulating In a dark dream of despair How long will I endure The silence of love How long will I bear The mass of dying hopes How long can I fight The curse of

दिल के रिश्ते…

दिल के रिश्ते... ghazal

दिल के रिश्ते अजीब होते हैं वो जितना दूर जाते हैं और क़रीब होते हैं I जब भी मैंने पूछा उनके दिल का हाल क्यों, किस लिए बस सवाल यही होते हैं I मैं ये कैसे बताऊँ वो कौन है

मेरी ज़िन्दगी…

मेरी ज़िन्दगी... ghazal

मेरी ज़िन्दगी किसी कहानी की तरह कोई पढ़ता रहा कोई सुनाता रहा I उसकी मांग में अब ग़ैर का निशां है मैं देखता रहा वो दिखाता रहा I दौलत-ए-दुनिया का ये निज़ाम देख कोई लुटता रहा कोई लुटाता रहा I

मेरी मोहब्बत का…

मेरी मोहब्बत का... ghazal

मेरी मोहब्बत का इतना सा फ़साना है उम्र दरिया-ए-ग़म है और इंतिज़ार पैमाना है I रोज़ मिलते हैं बिछड़ने के लिए या रब तू बता ये कैसा फ़साना है I चाँद बनने की तुझे ख़्वाहिश मुझे आफ़्ताब की ये तेरा आना

The Self

The Self long poem

Meditating quietly, On the self within, In the serene calm of mind Devoid of motion or sound Every day, Like a vibration, With a speed of thought, I travel manifold universes & Beyond, Amusing my-self In various lokas¹, Ever shining,

God and I

God and I short poem

In this endless route called life Where ‘m walking day or night Every moment – every sigh My wanderer soul, asks how and why Where is that place, where I could find thy? I searched for him in temples and