Poems written by Gyanendra Bajpai

तू कभी मिला ही नहीं

तू कभी मिला ही नहीं ghazal

तू कभी बिछुड़ा नहीं और तू कभी मिला नहीं पर मुझे तुझसे कोई शिकवा नहीं ग़िला नहीं, तू भले मुझसे ख़फ़ा है और मुझसे दूर है फिर भी तुझसे मेरे दोस्त दिल का फ़ासला नहीं, कैसे समझाऊँ तुझे मैं दिल