Poems written by अंकित पाण्डेय

भेद

भेद kavita

न बात हुई न अश्क छुपा, न याद गई न शख्स रुका, न ढुलका आँसू का कतरा, न ही दरिया में सीप मिला, न रुका शंख का नाद यहाँ, न युद्ध रुका न प्रेम दिखा, न सूरज डूबा पश्चिम में,