Poems written by Vipin

चिड़िया सावन वाली

चिड़िया सावन वाली kavita

एक चिड़िया सावन वाली थी वो अलबेली अटखेली सी, बूझो न कोई पहेली सी बोले जो बड़ी सयानी थी, परियों की कोई कहानी थी वो रंगों की परिभाषा थी, वो सपनों की एक आशा थी वो गोरी थी न काली,