Poems written by Ankita Kundu

I Hear You

I Hear You short poem

Her eyes narrate huge stories every time, I try to hear them, Measure the weight she drops on each word, Counting, the gulps after few. Her eye balls dance around, Like butterflies dancing in the ballroom, She hides violent storms

नारी

नारी kavita

मेरी माँ,साठ साल की डरी सहमी बच्ची है, हिंदुस्तानी है,पर पिताजी से पहले खाती नहीं। दुःख में अपने दर्द जताती नहीं।। यह राखी जन्मों का वादा है, एक रुखी लालसा,पल में बहना, पल में वेश्या बना देता है। रात को