Poems written by Abha

गाने का गुण है पंछी में

गाने का गुण है पंछी में geet

गाने का गुण है पंछी में जब भी वह दाने चुगता है वह तब ही गाने गाता है चाहे हो डंडी नुकीली चाहे हो फूलों की बगिया कैसी भी हों राहें पथरीली गीतों की तान सुनाता है ना जाने क्या

शिरीष एक गीत

शिरीष एक गीत geet

जिस आँगन में टहली हूँ मैं शिरीष एक पल्लवित हुआ है, हरा भरा है वृक्ष वहाँ पर नव कलियों से भरा हुआ है, सिंदूरी फूलों से लदकर टहनी टहनी गमक रही है, छटा निराली मन को भाए धूप मद भरी लटक

नदी

नदी geet

पर्वतों की डगर नापती रही नदी सारे अभिशाप सहती रही नदी कल कल का राग लहरों का स्वर गीत मछुआरों के गाती रही नदी, हिमगिरि के द्वार ठहरी नहीं कभी बहने का आश्वासन देती रही नदी, मैदानी आँगन में कूदती

ये मंसूरी की पहाड़ी

ये मंसूरी की पहाड़ी geet

ये मंसूरी की पहाड़ी सर्प सी लहरा रही है दिखती हैं सीढ़ियों सी घूमती ही जा रहीं हैं खाईयाँ हैं बहुत गहरी कांपती है प्रतिध्वनि भी झांकती हैं तरु मीनारें दिखती न इक कनी भी वादियाँ पर्वत की देखो गीत

सिंदूरी सांझ

सिंदूरी सांझ kavita

सिंदूरी साँझ लांघ गयी देहरी धूप की मौसम ने खोल दिये जाल महक उठे गन्धों के थाल मतवाली सांझ सिमटी, बाहों में प्रीत की सिंदूरी साँझ लांघ गयी देहरी धूप की, फसलों के वह सुरीले स्वर गीत बने लहलहा कर अलसाई