चिड़िया सावन वाली

चिड़िया सावन वाली kavita

Photo by goodsophism

एक चिड़िया सावन वाली थी
वो अलबेली अटखेली सी, बूझो न कोई पहेली सी
बोले जो बड़ी सयानी थी, परियों की कोई कहानी थी
वो रंगों की परिभाषा थी, वो सपनों की एक आशा थी
वो गोरी थी न काली, वो चिड़िया सावन वाली थी

वो घर में आँगन सी थी, जो बरसे तो सावन सी थी
वो बच्चों की तुतलाहट थी, कुछ अहसासों की आहट थी
वो छाँव दे रहा एक पीपल
न पत्ता था न डाली थी, वो चिड़िया सावन वाली थी

वो छत पे मिलने आती थी, संगीत नया गा जाती थी
जो पास कभी उसके जाते, वो पंख लगा उड़ जाती थी
अपना तो हल दीवाना था, हम दिन भर गाने गाते थे
वो सात बजे को आती थी हम पाँच बजे आ जाते थे
वो होली न दीवाली थी, वो चिड़िया सावन वाली थी

वो चिड़िया आज न आयी थी, कुछ बुझी हुई हरियाली थी
सावन अब जाने वाला था, और चिड़िया सावन वाली थी
कुछ देर हो गई हमसे थी, वो दूर बहुत दिलवाली थी
बस एक नज़र उसने देखा, जैसे कुछ कहने वाली थी
वो राग न वो क़व्वाली थी, वो चिड़िया सावन वाली थी

आती न तो बात अलग थी, अब याद बड़ी आ जाती हे
पल दो पल की ख़ुशियाँ देके, आज बहुत तड़पाती है
अब और नहीं चाहत मेरी, बस इतना ही तू कर जाना
हो किताब मेरी पूरी, बस इससे पहले मिल जाना|

Rate the poem
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 3.00 out of 5)
We are posting your rating...

Have something to say about the poem?

Profile photo of Vipin

Vipin

Signup / Login to follow the poet.
I am management professional working for IT company. I love writing my emotions with beautiful words when they overflow. I love poetry due to simple fact of being purest form of sharing emotions.
Poems you will love

Give your feedback / review for the poem

Be the First to Comment & Review poem!

Notify of
avatar
wpDiscuz

भुलाया नहीं जाता !

भुलाया नहीं जाता ! kavita

संग गुज़री यादों को अब भुलाया नहीं जाता ! दिल में जगे जज़्बातों को अब सुलाया नहीं जाता !! झेल लिए ढेरो सितम उसके हर घड़ी,हर डगर, मगर मासूम-सी उसकी सूरत देख बेवफ़ा उसे बुलाया नहीं जाता ! जी करता

For You My Love, My Valentine

For You My Love, My Valentine short poem

I want to say thank you mama I want to say thank you papa For having me born in this time So i could meet this woman and Make her my Valentine Now it’s up to me to be Tender,

Missing!

Missing! long poem

I had a very close friend that once disappeared She’d gone missing a long time, for many years Fled one night to another state far away And hid incognito somehow to stay She left suddenly with her tow-headed daughter and

Fantasy Pt. I

Fantasy Pt. I long poem

try me if you please as you are out spreading the disease plagued by thoughts of granduer with affectionate melancholy sparkling array of blissful care through the air my very soul permeates a reason for being amidst the changing of

Ford’s Theater, April 15th, 1865,

Fords Theater, April 15th, 1865, ode

Petersen House, Washington, D.C. (i admit to own a passion for the Civil War in general, and the life and death of the sixteenth president in particular). between a hard spot of whiskey and draughts of arrack nonetheless (without doubt),